Jharkhand Aajivika Samvardhan Hunar Abhiyan 2020

झारखंड अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान। झारखंड अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान २०२०।अजीविका समवर्धन हुनर ​​अभियान। आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान आशा योजना। अजिविका समवर्धन हुनर ​​योजना। अजिविका समवर्धन हुनर ​​मिशन। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना

झारखंड अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान हाइलाइट्स

योजना का नाम झारखंड अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान
द्वारा लॉन्च किया गया झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन
पर लॉन्च किया गया 29 सितंबर 2020
लाभार्थियों राज्य की महिलाएं
लक्ष्य महिलाओं को रोजगार दें
आवेदन की प्रक्रिया अभी तक शुरू नहीं किया
सरकारी वेबसाइट

झारखंड आजिविका सम्मान हुनर ​​अभियान 2020

झारखंड के मुख्यमंत्री जी महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए नई नई योजनाओं की शुरुआत कर रहे हैं। झारखंड की राज्य सरकार ने महिलाओं के लिए ऐसी ही नई योजना की शुरुआत की जिसका नाम है आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान.आज हम आपके साथ झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान से जुड़ी सभी जानकारियों पर चर्चा करेंगे। और साथ ही में इस योजना की पात्रता, उद्देश्य, लाभ, आवेदन प्रक्रिया आदि पर चर्चा करेंगे।

अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान। आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान

झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने राज्य की महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान को शुरू किया है। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रह, उद्यमिता सहित स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे। इस अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा झारखण्ड की 17 लाख ग्रामीण महिलाओं को लाभान्वित किया जाएगा।

झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान के तहत राज्य सरकार ने कहा 600 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया है। झारखंड के मुख्यमंत्री जी के द्वारा स्वयं दुमका के मंडलों में 150 करोड़ रुपये की राशि हैं। झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना का संचालन ग्रामीण विकास विभाग करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार महिला और युवाओ को रोजगार देने में पूरी तरह से सक्षम है। राज्य सरकार के द्वारा प्रतिदिन झारखंड के 650000 लोगों को रोजगार प्रदान किया जाता है।

अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान

राज्य में ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं जो अपना घर का खर्च चलाने के लिए सड़क पर हड़िया दारुस्तीती है। इस योजना की शुरुआत हड़िया दारु बेचने वाली महिलाओं के लिए ही की गयी है। मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने इस अवसर पर कहा कि महिलाएं हड़िया दारू बेचने का काम मजबूरी में करती है।इस योजना का हासिल है की अब झारखण्ड नहीं भी महिला सड़क पर हड़िया दारू नहीं बेचती हुई दिखाई दे। राज्य सरकार अब हरिया दारु बेचने वाली महिलाओं को आजीविका को पूरा करने के लिए झारखंड आजीविका संवर्द्धन हुनर ​​अभियान को बढ़ावा देती है। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा ग्रामीण महिलाओं को रोजगार और स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए गए।

पलाश ब्रांड

पलाश ब्रांड झारखंड सरकार का एक ब्रांड है। राज्य सरकार पलाश ब्रांड को पुरे विश्व में पहचान देना चाहती है। पलाश ब्रांड को आगे ले जाने के लिए सरकार ने राज्य की महिलाओं को प्रेरित किया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने यह भी कहा कि टाटा और अमूल की तरह पलाश ब्रांड भी बहुत दूर है।

उन्होंने लिज्जत पापड़ और अमूल के बारे में यह भी बताया कि इनका उत्पादन महिला स्वयं सहायता समूह की सहायता से किया जाता है। राज्य सरकार पलाश ब्रांड को भी महिला और सहायता समूह की सहायता से किए गए उत्पादन के उत्पाद से आगे तरक्की की ओर ले जाना चाहती है। इस ब्रांड के ज़रिए लोक झारखंड की महिलाओं का सशक्तिकरण होगा और आत्मनिर्भर बनेगी। पलाश ब्रांड के तहत अभी तक राज्य में सिर्फ खाने पीने के उत्पाद ही बनाए जाते हैं। भविष्य में राज्य सरकार इस ब्रांड के जूते, चप्पल, साड़ी आदि भी पलाश ब्रांड के नाम से पुरे विश्व में बेचे जाएगी।

अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभिमें

झारखण्ड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान का मुख्य उद्देश्य हड़िया दारू बेचने वाली महिलाओं को रोजगार और स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवाना है। इस आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान के जरिये रोजगार प्राप्त कर अब राज्य की महिलाओं को अपनी आजीविका चलाने के लिए हड़िया दारू बेचने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। आजीविका संवर्द्धन हुनर ​​योजना के ज़रूरी हो महिलाओं का सशक्तिकरण किया जाएगा। और उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार लाया जाएगा। इस योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओ को आत्मनिर्भर और सशक्त बनाना है। और साथ ही हमारे देश के प्रधानमंत्री जी के साथ “मेक इन इंडिया” के सपने को एक नई ऊचाई पर ले जाना है।

अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान मूक विशेषताएं

इस अभियान की शुरुआत झारखंड की हड़िया दारू बेचने वाली महिलाओं के लिए की गई है।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना के तहत हड़िया दारु बेचने वाली महिलाओं को रोजगार और स्वरोजगार के अवसर राज्य सरकार के द्वारा प्रदान किए जाएंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना से महिलाओं का सशक्तिकरण होगा।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना के जरिये राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रहण, उद्यमिता सहित स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए जाएंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना के जरिये झारखंड राज्य के लगभग 17 लाख ग्रामीण परिवार ान्व लाभार्थी किया जाएगा।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना के तहत राज्य की की महिलाओं को अपनी आजीविका चलाने के लिए हड़िया दारु बेचने की आवश्यकता नहीं होगी।

इस योजना के अंतर्गत राज्य की महिलाओं को रोजगार और स्व रोजगार के अवसर भी मिलेंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना का 600 करोड़ रुपए का बजट राज्य सरकार के द्वारा निर्धारित किया गया है।

इस योजना का संचालन ग्रामीण विकास विभाग करेगा।

अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान आवश्यक दस्तावेज

आधार कार्ड
राशन कार्ड
निवास प्रमाण पत्र
मोबाइल नंबर
पास साइज फोटोग्राफर

अजिविका समवर्धन हुनर ​​अभियान अनुप्रयोग प्रक्रिया

जैसा कि आप अभी तक जानते हैं कि झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना की शुरुआत राज्य सरकार के द्वारा 29 सितंबर 2020 को की गयी है। राज्य के इच्छुक लाभार्थी जो इस के तहत आवेदन करना चाहते हैं तो आपको कुछ समय के लिए प्रतीक्षा करना होगा। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना के लिए राज्य सरकार द्वारा केवल घोषणा की गई है। राज्य सरकार के द्वारा जल्दी ही इस योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। और जैसे इस योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी हम आपको हमारे इस लेख के माध्यम से संकेत कर देंगे।

अधिक जानकारी के लिए झारखंड सरकार की आधिकारिक वेबसाइट देखें: https://www.jharkhand.gov.in

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना क्या है?

झारखंड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन जी ने राज्य की महिलाओ के सशक्तिकरण के लिए झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान को शुरू किया है। झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​अभियान के जरिये राज्य सरकार के द्वारा राज्य की महिलाओं को कृषि आधारित आजीविका, पशुपालन, वनोपज संग्रह, उद्यमिता सहित स्थानीय संसाधनों से जुड़े स्वरोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना की शुरुआत कब की गयी है?

झारखंड आजीविका संवर्धन हुनर ​​योजना की शुरुआत राज्य सरकार के द्वारा 29 सितंबर 2020 को की गयी है।

पलाश ब्रांड क्या है?

पलाश ब्रांड झारखंड सरकार का एक ब्रांड है। पलाश ब्रांड के तहत अभी तक राज्य में सिर्फ खाने पीने की उत्पाद ही बनाए जाते हैं। भविष्य में राज्य सरकार इस ब्रांड के जूते, चप्पल, साड़ी आदि भी पलाश ब्रांड के नाम से पुरे विश्व में बेचे जाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *