PM Gramin Ujala Yojana 2021 | 10

पीएम ग्रामीण उजाला योजना 2021। प्रधानमंत्री ग्रामीण रोजगार योजना लागू | प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना निशुल्क बल्ब पंजीकरण | ग्रामीण उजाला मुफ्त एलईडी ब्लब योजना योजना प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना 2021 प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना

पीएम ग्रामीण उजाला योजना 2021

आप सभी इस बात से भली भांति परिचित होंगे कि केंद्र सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए कई प्रकार की योजनाएं चलाई जाती हैं। ऐसी ही एक योजना प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना चलाई गयी है। इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के प्रत्येक परिवार को तीन से चार पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे ।आज हम आपको इस लेख के माध्यम से प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना से जुड़ी संपूर्ण जानकारी जैसे कि प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना क्या है ?, इसका लाभ, उद्देश्य? , आंकड़े, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। प्रदान करने जा रहा है।

पीएम ग्रामीण उजाला योजना 2021। प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना 2021 के तहत प्रत्येक ग्रामीण परिवार को दस दस रुपये में एल ई डी बल्ब योजनाएं दी जाएंगी। । प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना को सार्वजनिक क्षेत्र की एनर्जी एफिशिएन्सी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा आगामी माह में वाराणसी सहित देश के 5 शहरों के ग्रामीण क्षेत्रों में शुरू की जाएगी। पूरे देश में इस योजना को अप्रैल तक लागू कर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के तहत एनर्जी एफिशिएंसी को ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुंचना है। योजना के माध्यम से विधुत में कमी आयेगी। जिससे लोगों के धन की बचत होगी। पीएम ग्रामीण उजाला योजना 2021 ala के तहत 60 करोड़ रुपये 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को सूचीबद्ध किया जाएगा । इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के लोगो को काफी लाभ प्राप्त होगा।

मुख्य विचार का प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना 2021

योजना का नाम प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना
किसने लॉन्च किया था? एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड
लाभार्थी ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले नागरिक
उद्देश्य एनर्जी एफिशिएंसी को ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुंचाना चाहिए
साल 2020
ग्लब्स का मूल्य ₹ 10
लाभार्थियों की संख्या 15 से 20 करोड़ रु
बल्ब की संख्या 60 करोड़ रु
बिजली की बचत 9324 करोड़ यूनिट
पैसों की बचत 50 हजार करोड़ रु
कार्बन की कमी 7.65 करोड़ रु

इस योजना को सुचारु रूप से लागू होगा। जिसमें उत्तर प्रदेश का वाराणसी, आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा बिहार का आरा और महाराष्ट्र का नागपुर, गुजरात का वडनगर को सम्मिलित किया गया था। इस योजना से लगभग 9324 करोड़ यूनिट विधुत की बचत होगी। और प्रतिवर्ष 7.65 करोड़ टन कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी। प्रधानमंत्री ग्रामीण रोजगार योजना के तहत 50000 करोड़ रुपये की बचत होगी। इस योजना के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार से किसी भी प्रकार का अनुदान नहीं लिया जाएगा। पीएम ग्रामीण उजाला योजना 2021 का सारा खर्च एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) पिकेगी कार्बन अतीत के माध्यम से इस योजना की लागत की वसूली की जायगी।

यह भी देखें – >> प्रधानमंत्री वानी योजना | मुफ्त WIfi योजना

पीएम ग्रामीण उजाला योजना का उद्देश्य 2021

इस योजना का मुख्य उद्देश्य एनर्जी एफिशिएन्सी को ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुंचाना है। इस योजना के तहत प्रत्येक ग्रामीण परिवार को दस दस रुपए में एल ई डी बल्ब वितरीत किया जाएगा। जिससे कि विधुत की खपत कम होगी और धन की बचत होगी। प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों का विकास होगा। जिससे लोगो के जीवन स्तर में परिवर्तन होगा। इस योजना के माध्यम से लोगो को एनर्जी एफिशिएंसी के बारे में जानने का अवसर प्राप्त होगा।

पीएम ग्रामीण उजाला योजना

प्रधान मंत्री ग्रामीण उजाला योजना 2021 प्रमुख विशेषताएं

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों के प्रत्येक परिवार को एलईडी 10 में मिले बल्ब वितरीत किए जाएंगे।

इस योजना के अंतर्गत 3 से 4 अरब डॉलर दिए जाएंगे।

पब्लिक सेक्टर की एनर्जी एफिशिएन्सी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा ग्रामीण उजाला योजना को लॉन्च किया गया।

इस योजना को सुचारु रूप से आरा, नागपुर, वडनगर और वाराणसी, विजयवाड़ा में शुरू किया गया।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना को अप्रैल तक पूरे भारत में लागू कर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के माध्यम से 60 करोड़ रुपये की 15 से 20 करोड़ लाभार्थियों को बांटे जाएंगे।

इस योजना के माध्यम से प्रतिवर्ष करीबन 9325 करोड़ यूनिट विधुत की बचत होगी।

इस योजना के माध्यम प्रति वर्ष 7.65 करोड़ टन कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी।

इस योजना के माध्यम से सालाना 50000 करोड रुपए की बचत होगी।

प्रधानमंत्री ग्रामीण रोजगार योजना के तहत 50000 करोड़ रुपये की बचत होगी।

इस योजना के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार से किसी भी प्रकार का अनुदान नहीं लिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना का सारा खर्च ऊर्जा दक्षता सेवा लिमिटेड (ईईएसएल) टेकएगी।

इस योजना में कार्बन एजी के माध्यम से लागत वसूली की जाएगी।

प्रधानमंत्री ग्रामीण उजाला योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के लोगो को एनर्जी एफिशिएंसी के बारे में जानने का अवसर प्राप्त होगा।

इस योजना के माध्यम से लोगों के धन की बचत होगी।

यह भी देखें – >> डाकघर बचत योजना

UJALA कार्यक्रम का पिछला लॉन्च

एनटीजी, पावर स्टूडियो पीएफसी, आरईसी संयुक्त उद्यम कंपनी उजाला कार्यक्रम के तहत बल्ब 70 प्रति बल्ब की दर से 36.50 करोड़ से अधिक रुपये बल्ब बाटे जा चुके हैं। जिनमें से केवल 20% क्षेत्रों में ही ग्रामीण क्षेत्र पहुंचे हैं। उजाला कार्यक्रम के तहत एनर्जी एफिशिएन्सीसीके, ट्यूब लाइट, इलेक्ट्रॉनिक व्हीकल, स्ट्रीट लाइट, स्मार्ट मीटर, ईवी चार्जिंग आदि को सम्मिलित किया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *