Swami Vivekananda Etihasik Paryatan Yatra Yojana 2021। ₹12000 की वित्तीय सहायता राशि –

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना | स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना लागू | स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना ऑनलाइन आवेदन | स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना आवेदन फॉर्म | स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021. 000 12000 की वित्तीय सहायता राशि | स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना आवेदन पत्र पीडीएफ । स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमारे देश में धार्मिक पर्यटन स्थलों को यात्रा को कितना शुभ माना जाता है ।इस बात को मध्यम दृष्टिकोण रखते हुए हमारे देश की सरकार ने स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना की शुरुआत की है। आज हम आपके साथ हमारे इस लेख के माध्यम से स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे आवेदन प्रक्रिया मुख्य उद्देश्य पात्रता आवश्यक दस्तावेज आदि पर चर्चा पर चर्चा करेंगे। और साथ में यह भी बताएंगे कि स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना क्या है।

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पारीतन यात्रा योजना २०२१ स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की द्वारा राज्य के श्रमिकों को ऐतिहासिक पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के लिए आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी।स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत श्रमिकों को उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा पर्यटन 12000 की वित्तीय सहायता राशि पर्यटन स्थलों की यात्रा के लिए प्रदान की जाएगी। स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य के 6.5 लाख श्रमिक जो 20500 फैक्ट्रियों में कार्य करते हैं, उन सभी को लाभान्वित किया जाएगा। स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन योजना के तहत सभी श्रमिक धार्मिक स्थलों की यात्रा कर रहे हैं। इस योजना के तहत 1.5 करोड़ श्रमिकों को लाभान्वित किया जाएगा।

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021 की मुख्य विशेषताएं

योजना का नाम स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना
किसने लॉन्च किया था? उत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थी उत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्य श्रमिकों को धार्मिक यात्रा के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करना।
आधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें
साल 2021
आर्थिक सहायता ₹ 12000

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021 उद्देश्य

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का मुख्य उद्देश्य सभी श्रमिकों को धार्मिक स्थलों की यात्रा का अवसर उपलब्ध करवाना है स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा श्रमिकों को धार्मिक स्थलों की यात्रा करने के लिए ₹ 12000 की वित्तीय सहायता राशि मुहैया की जाएगी जिससे वह धार्मिक स्थलों की यात्रा आसानी से कर पाएंगे। अब किसी भी व्यक्ति को आर्थिक तंगी के कारण धार्मिक यात्रा से वंचित नहीं रहेगा।

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021 धार्मिक स्थल

अयोध्या
मथुरा
प्रयागराज
वाराणसी
हस्तिनापुर (मेरठ)
गोरखपुर का गोरखनाथ मंदिर
शाकुंभरी देवी और वैष्णो देवी मंदिर

यह भी देखें – >> यूपी रोजगर मिशन

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021 प्रमुख विशेषताएं

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा सभी श्रमिकों को धार्मिक स्थलों की यात्रा करने के लिए वित्तीय सहायता राशि की आवश्यकता होगी।

इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य के 20500 फैक्ट्रियों में कार्य करने वाले श्रमिकों को लाभान्वित किया जाएगा।

इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा 1.5 करोड़ श्रमिकों को लाभान्वित किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत की 12000 की वित्तीय सहायता राशि धार्मिक स्थलों की यात्रा करने के लिए प्रदान की जाएगी।

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा आवेदन प्रक्रिया 24 जनवरी 2021 से शुरू की जाएगी।

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021 पात्रता मानदंड

इस योजना के तहत आवेदन करने वाला व्यक्ति उत्तर प्रदेश राज्य का स्थाई निवासी होना चाहिए

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत आवेदन करने वाला व्यक्ति पंजीकृत श्रमिक होना चाहिए।

इस योजना के तहत आवेदन करने वाले व्यक्ति का लेबर वेलफेयर बोर्ड के तहत पंजीकृत होना अनिवार्य है।

इस योजना के तहत आवेदन करने वाले व्यक्ति फैक्ट्री वर्कर होना अनिवार्य है।

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना २०२१ आवश्यक दस्तावेज

आधार कार्ड
राशन कार्ड
श्रमिक आईडी कार्ड
निवास प्रमाण पत्र
पास साइज फोटोग्राफर
मोबाइल नंबर

स्वामी विवेकानंद इटिहासिक पिरयतन यात्रा योजना 2021 पंजीकरण प्रक्रिया

सर्वप्रथम आवेदक को स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन योजना के तहत आवेदन करने के लिए लिंक । क्लिक करना होगा।

अब आवेदक के सामने स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना का आवेदन पत्र पीडीएफ खुल जाएगा। आवेदक को इस पृष्ठभूमि को डाउनलोड करके प्रिंट आउट निकालना होगा।

आवेदक को आवेदन पत्र में पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी ध्यानपूर्वक दर्ज की जानी चाहिए।

सभी आवश्यक जानकारी दर्ज करने के पश्चात आवेदक को सभी आवश्यक दस्तावेजों को संगलन द्वारा आवेदन पत्र को श्रम विभाग कार्यालय में जाकर जमा करवाना होगा।

इस प्रकार आप की आवेदन प्रक्रिया समाप्त होती है।

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना की शुरुआत किस राज्य में की गई है?

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश राज्य में की गई है।

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा श्रमिकों को धार्मिक स्थलों की यात्रा करने के लिए कितनी आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी?

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के द्वारा स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत श्रमिकों को वित्तीय 12000 की वित्तीय सहायता राशि धार्मिक स्थलों की यात्रा करने के लिए प्रदान की जाएगी।

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया कब से शुरू की जाएगी?

स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया 24 जनवरी 2021 से शुरू की जाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *