TRIFED | Pradhan Mantri Van Dhan Yojana 2020

ट्राइफेड | प्रधान मंत्री योजना | प्रधानमंत्री वन धन योजना | प्रधानमंत्री वन धन योजना २०२० | trifed | trifed full form | trifed upsc | trifed india | लघु वनोपज | भारत की जनजातियाँ | tribesindia | ई जनजाति भारत | वैन धन योजना

ट्राइफेड | प्रधान मंत्री योजना

नमस्कार दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको नई योजना के बारे में बताने जा रहे हैं किसका नाम है प्रधानमंत्री वन धन योजना इस योजना का लाभ लेने के लिए इस आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़ा जाए। हम आपको बताते हैं कि किस प्रकार के वन धन योजना का आसानी से लाभ उठा सकता है।

TRIFED | प्रधान मंत्री वन धन योजना 2020 |

मौजूदा दौर में अभूतपूर्व संकट जोकि को विभाजित -19 महामारी से पैदा हुई चुनौतियों से निपटने के लिए प्रधानमंत्री जनधन कवरेज को 6000 एस एच जी एस से बढ़ाकर 50 हजार एसएचजीएस कर दिया गया है। ऐसा करने से आदिवासियों का लगभग कवरेज 3 गुना बढ़कर 10 लाख करने का प्रस्ताव रखा गया है। यानी कि (ट्राइफेड) सरकारी विकास अधिशेष ऑफ इंडिया लिमिटेड जनहित कार्य मंत्रालय ने इसके लिए आयोजित किया है।

आधिकारिक सूचना के अनुसार वन धन योजना में कवरेज को 18000 एस एच जी से बढ़ाकर 50 हजार किया जाएगा। और इस राशि को बंधन स्टार्टअप कार्यक्रम के माध्यम से आसानी से प्राप्त किया जा सकेगा। मुख्य तो इस योजना में वन धन स्वयं सहायता समूह का विस्तार किया जाना है और इसमें 10 लाख आदिवासियों को कवर करने की योजना बनाई गई है।

भारत सरकार ने प्रत्येक वन धन विकास कार्यक्रम के अंदर आने वाले सभी केंद्रों को 15 लाख रुपये आवंटित किया है। इन सभी केंद्रों पर अब तक 25% से 30% अनुदान भी दिया जा रहा है। इस वन धन योजना के माध्यम से अब तक 1205 जनहित उद्यम स्थापित किए जा चुके हैं। इसके माध्यम से शुरू किए गए स्टार्टअप योजना में 10 लाख आदिवासी लोग कवर किए जा चुके हैं।

इस कोरोना काल के मुश्किल समय में इस योजना को “गो वोकल फॉर लोकल” “गो ट्राईबल मेरा धन मेरा उद्यम” के तौर पर स्वीकार किया गया है। और इसका भरपूर प्रचार किया जा रहा है ताकि सभी इसका लाभ सभी ले पाए। इसके साथ ही भारत सरकार देश भर में 3000 व केंद्र स्थापित इन सभी केंद्रों का मकसद वन संपदा जैसे की लकड़ी उत्पादन करना है।

पीएम वन धन योजना के लाभ | वैन धन योजना के लाभ (ट्राइफेड)

भारत सरकार की तरफ से सभी केंद्रों को 15 लाख रुपए दिए गए हैं।

इस योजना के अनुदान से अब तक 25% से 30% नंबर वन विकास केंद्रों द्वारा कच्चे माल की खरीद श्रम लागत और अन्य गतिविधियों पर खर्च किए गए हैं।

ये सभी केन्द्रो के लिए एक राशि निर्धारित की गई है जिसका सही तरीका से इस्तेमाल किया जा रहा है।

मुख्य तो इस योजना के तहत 10 लाख आदिवासी को कवर करने की प्लानिंग बनाई गई है।

वन धन योजनाए कैसे करें / वैन धन योजना के लिए आवेदन कैसे करें ट्राइफेड

इस योजना के तहत खरीद आदि करने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म सरकारी वेबसाइट किया नियोजन किया गया है आप इस प्लेटफार्म का उपयोग कर खरीदारी कर सकते हैं।

वन धन योजना की OFishial वेबसाइट को 30 जून तक जनवादी मामलों के केंद्रीय मंत्री के स्पष्टीकरण लॉन्च से पहले ट्रायल के तौर पर शुरू किया गया है आप इसके ट्रायल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसकी सूची ऊपर दी गई है।

आधिकारिक तौर पर इस प्लेटफॉर्म पर खरीदारी करने के लिए 30 जुलाई 2020 को लॉन्च कर दिया जाएगा ऐसी ऑफिशल जानकारी में कहा गया है।

तो दोस्तों किसी ने हमारी यह जानकारी हमें जरूर बताये। और कोई परेशानी न हो कि इस योजना के बारे में तो आप ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर अड़बिक जानकारी ले सकते हैं या कमेंट बॉक्स में भेज सकते हैं।) धन्यवाद्

वन धन योजना में आवेदन कैसे करें?

वैन धन योजना का लाभ उठाने के लिए आपको यात्रा करने की आवश्यकता है सरकारी वेबसाइट। और आवश्यक विवरण के साथ वहां आवेदन करें।

वैन धन योजना के क्या लाभ हैं?

भारत सरकार की तरफ से सभी केंद्रों को 15 लाख रुपये दिए गए हैं।
इस योजना के अनुदान से अब तक 25% से 30% नंबर वन विकास केंद्रों द्वारा कच्चे माल की खरीद श्रम लागत और अन्य गतिविधियों पर खर्च किए गए हैं।
ये सभी केन्द्रो के लिए एक राशि निर्धारित की गई है जिसका सही तरीका से इस्तेमाल किया जा रहा है।
मुख्य तो इस योजना के तहत 10 लाख आदिवासी को कवर करने की प्लानिंग बनाई गई है।

ट्राइफेड का पूर्ण रूप क्या है?

का फुल फॉर्म है ट्राइफेड ट्राइबल को-ऑपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (TRIFED) है।

TRIFED का मुख्य कार्यालय कहाँ है?

TRIFED का मुख्य कार्यालय NCUI बिल्डिंग, दूसरी मंजिल, 3, सिरी इंस्टीट्यूशनल एरिया अगस्त क्रांति मार्ग, नई दिल्ली -110016 में है।

हेल्पलाइन नं। की कोशिश की?

हेल्पलाइन नं। हैं (+91) (११) २६५६ ९ ०६४,२६ ९ ६7२४ (

Updated: June 30, 2020 — 9:33 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *